Tuesday, October 30, 2018

डिप्रेशन क्या है और क्या है सिम्टम्स

What is depression and how to overcome?

"Depression kya hai"











 Depression: दोस्तों डिप्रेशन को हम कई नाम से जानते है  निराशा ,अवसाद ,उदासी 

और भी कई नाम से जानते  है। डिप्रेशन एक कॉमन बीमारी है जिसमे आपका मन उदास रहता है। 
उदासी का ये मतलब नहीं आप उदास है तो आप डिप्रेशन  में हो। डिप्रेशन नार्मल उदासी से अलग 
होती है डिप्रेशन को हम दो तरीकों से समझ सकते है 
a) डिप्रेशन में हमे बहुत उदासी रहती है, 
b)और ये लगातार रहती है। 
नार्मल उदासी और डिप्रेशन वाली उदासी में यही फरक है कि नार्मल उदासी कुछ समय के लिए रहती 
है फिर आप नार्मल हो जाते हो जबकि डिप्रेशन वाली उदासी लगातार रहती है। जो चीज़े आपको खुश 
कर पाती थी जैसे आपकी फैमिली,आपके दोस्त और भी जिससे आपको ख़ुशी मिलती थी डिप्रेशन की 
वजह से ये भी आपको खुश नहीं कर पाती है। 
डिप्रेशन की बीमारी कई सदियों से चलती आ रही है। 20वी सदी में भी लोग डिप्रेशन के शिकार थे।
पर 21वी सदी में डिप्रेशन की बीमारी 10 गुना तक बढ़ गयी है। डिप्रेशन का शिकार कोई भी हो सकता
है चाहे बच्चा हो या बड़ा।

Depression के कई कारण हो सकते है :

डिप्रेशन के कई कारण हो सकते है जैसे व्यापार की टेंशन,बच्चों की पढ़ाई की टेंशन,Unhealthy lifestyle,
जॉब की टेंशन,किसी के प्यार में धोका मिलना,फैमिली टेंशन,Workload और भी कई कारण डिप्रेशन के 
हो सकते है। जब आप डिप्रेशन का शिकार होते है तो आपका किसी भी चीज़ में मन नहीं लगता और
आपको ऐसा लगता है अब ये ही मेरी जिंदगी है जैसे कट रही है वैसे ही कटने दो। आपको कोई अच्छे बुरे
का ख्याल नहीं होता। आप डिप्रेशन से अपने आप को पोस्टिव रख कर बाहर आ सकते हो। सब कुछ
आप पर depend करता है आप क्या सोचते हो क्या करना चाहते हो। किस तरह से आप डिप्रेशन से
बाहर आए। आप अपनी जिंदगी को अच्छी तरह से जी सकते हो। सब कुछ आप पर डिपेंड करेगा आपको
आपसे अच्छा कोई नहीं जान सकता।

Depression के लक्षण :

1) Neagtive Thoughts बार बार आना भी डिप्रेशन का कारण हो सकता है। जिनके मन में Neagtive Thoughts आते है वो छोटा सा छोटा निर्णय भी सही समय पर नहीं ले पाते है या वे छोटा सा छोटा 
निर्णय लेने में भी काफी समय लगा देते है। उनके मन में यही रहता है कि मेरे साथ कोई उन्होनी न 
हो जाये। 
2) Feeling Irritate{चिड़चिड़ापन}:डिप्रेशन का कारण चिड़चिड़ापन भी हो सकता है। आपसे कोई 
लगातार बात कर रहा है और आप उसका जबाब न दे और आप हर बात पर गुस्सा हो जाये। ये भी 
डिप्रेशन का कारण है। 
3) Lack of Focus: Lack of Focus मतलब किसी भी काम पर फोकस न कर पाना भी एक डिप्रेशन 
का कारण हो सकता है। आप किसी भी बात पर बार-बार गुस्सा कर रहे हो और अपने काम पर फोकस 
नहीं कर पा रहे हो ये भी डिप्रेशन का कारण है। 
4) Lack Of Self-Esteem and Self Confidence{आत्मसमान और आत्मविश्वास की कमी}:
नकरात्मक सोच भी आपके आत्म सम्मान और आत्म विश्वास को कम कर सकती है। डिप्रेशन का 
कारण एक नकारत्मक सोच भी है। आप अपने आप को दूसरों से कम आंकना शुरू कर देते हो 
जो आपके आत्मविश्वास में कमी लाता है। आप अपने लिए कुछ करना चाहते है ,या आप अपनी लाइफ 
में कोई स्टेप लेना चाहते है पर आपको लगता है की लोग मेरे बारे में क्या सोचेगे। ये भी आत्मविश्वास की 
कमी को दर्शाता है। 
5) आत्महत्या: डिप्रेशन में आत्महत्या का खतरा भी बढ़ जाता है। बच्चे और महिलाएं इसका ज्यादा 
 शिकार होते है। महिलाएं पुरुषो के मुकाबले डिप्रेशन के कारण आत्महत्या करने का ज्यादा सोचती है। 
ये किसी भी कारण से हो सकता है जैसे अकेलेपन या किसी और कारण से भी। 
6) नींद न आना:नींद न आना भी एक डिप्रेशन का एक कारण हो सकता है। जब आप सोने लगते हो 
तो आपको बुरे सपने आते है और आपको घबराहट महसूस होने लग जाती है। जिससे आपको नींद 
नहीं आती है।

WHO REPORT:

1)World Health Organisation के मुताबिक विश्व में 300 मिलियन यानि 30 करोड़ लोग डिप्रेशन से 
पीड़ित है। ये विश्व की आबादी का लगभग 4.2% होगा। 

2) डिप्रेशन के शिकार पुरुषों के मुकाबले महिलाएं ज्यादा पीड़ित हैं। 

3) भारत में लगभग 5.5 मिलियन यानि 5 करोड़ लोग 50 लाख लोग डिप्रेशन से पीड़ित है। उनमे से 
3.2 करोड़ लोग "एग्ज़ाइटी" यानि बेचैनी से पीड़ित है। 

4) National Mental Health Survey {NHMS} की रिपोर्ट के मुताबिक भारत में 14 से कम साल 
के बच्चे भी डिप्रेशन के शिकार है। इनमे लड़के लड़कियां दोनों शामिल है। 


जिंदगी बहुत खूबसूरत है। आप डिप्रेशन से आसानी से बाहर आ सकते हो। डॉक्टर की 
सलाह ले। फिजिकली वर्कआउट करे। आप आसानी से डिप्रेशन से बाहर आ सकते हो 
आपको हर समय पॉजिटिव रहना होगा। जो आपका मन है वो करे और खुश रहे। 




























No comments:

Post a Comment